अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

रेखा राजवंशी

जन्म तिथि-
१३ अक्टूबर १९६० को रेवाड़ी, हरियाणा में।

शिक्षा-
स्नातक स्तर तक हिन्दी व अंग्रेज़ी साहित्य, मनोविज्ञान और शिक्षा शास्त्र में स्नातकोत्तर उपाधि तथा बी.एड.। स्पेशल एडुकेशन में मक्वारी यूनिवर्सिटी सिडनी से पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा

कार्यक्षेत्र-
लेखिका, कवयित्री व रेडियो कलाकार रेखा राजवंशी सिडनी में हाई स्कूल टीचर हैं । सप्ताहांत में हाई स्कूल के बच्चों को हिन्दी पढ़ाने के होने के साथ-साथ सिडनी विश्वविद्यालय में प्रौढ़ शिक्षा के अंतर्गत हिन्दी पढ़ाती हैं । दिल्ली में आल इंडिया रेडियो के नाटक, बाल और महिला विभाग की कलाकार का अनुभव रखने वाली रेखा सिडनी में एस बी एस रेडियो में सात साल से कार्यक्रम योगदान देती रही है। और सिडनी, मेलबर्न, केनबरा तथा वूलून्गोंग शहर में काव्य पाठ कर चुकी हैं। एन.ए.ए.टी.आई. से अनुमोदित अनुवादक। रेखा ने कुछ सरकारी विभागों व वेबसाइटों के लिए अनुवाद के अलावा ऑस्ट्रेलिया में एबोरीजनल एनीमेशन फिल्म की कहानियों का अनुवाद किया है।

प्रकाशित कृतियाँ-
१. अनुभूति के गुलमोहर -काव्य संग्रह,
२. ये गलियों के बच्चे- शोध ग्रन्थ,
३. छोटे-छोटे पंख - बाल कविताएँ,
४. बूमरैंग- ऑस्ट्रेलिया से कविताएँ - ऑस्ट्रेलिया के ११ कवियों का काव्य संग्रह (संपादन) तथा एकता का संकल्प (सह संपादित)

ईमेलः
rekha_rajvanshi@yahoo.com.au 

 

अनुभूति में रेखा राजवंशी की रचनाएँ —

नई रचनाओं में-
आइने का हर टुकड़ा
जिंदगी
जैसे हर बात पे
बर्फ के दायरे

शहर का मौसम

छंदमुक्त में—
अपनों की याद
कंगारुओं के देश से
जिंदगी छलने लगी
ढूँढ रही हूँ चंदन
दर्द के पैबंद
दोस्ती
पिघलता अस्तित्व
पिता
बचपन के दिन
बदलाव
भाई को चिट्ठी
माँ दो कविताएँ
वक्त के पैबंद
विदेश में भारत
सफर एक औरत का
संदूक

छोटी कविताओं में—
संगति
कैक्टस
रोको मत
लक्ष्मी

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter