अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

कल्पना रामानी

६ जून १९५१ को उज्जैन में जन्मी कल्पना रामानी आजकल नवी मुंबई में रहती हैं।

हाई स्कूल तक औपचारिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद उनके साहित्य प्रेम ने उन्हें निरंतर पढ़ते रहने के अभ्यास में रखा। परिवार की देखभाल के व्यस्त समय से मुक्ति पाकर उनका साहित्य प्रेम लेखन की ओर मुड़ा और कंप्यूटर से जुड़ने के बाद उनकी प्रतिभा को देश विदेश में जाना गया।

वे गीत, गजल, छंदमुक्त, और हाइकु में विशेष रुचि रखती हैं। उनकी रचनाएँ पत्र पत्रिकाओं और अंतर्जाल पर प्रकाशित होती रहती हैं।

प्रकाशित कृतियाँ-
गीत संग्रह- हौसलों के पंख, खेतों ने खत लिखा
 

ईमेल- kalpanasramani@gmail.com

 

अनुभूति में कल्पना रामानी की रचनाएँ-

नये कुंडलिया में-
गर्मी करे विहार

कुंडलिया में-
नारी अब तो उड़ चली

अंजुमन में-
कभी तो दिन वो आएगा
कल जंगलों का मातम
कोमल फूलों जैसे रिश्ते
खुदा से खुशी की लहर
खुशबू से महकाओ मन
खोलो मन के द्वार
गीत मैं रचती रहूँगी
ज़रा सा मुस्कुराइये
जिसे पुरखों ने सौंपा था
देश को दाँव पर
पसीने से जब जब
बंजर जमीं पे बाग
भू का तन प्यासा
मन पतंगों संग
यादें
वतन को जान हम जानें

गीतों में-
अनजन्मी बेटी
ऋतु बसंत आई

काले दिन
गुलमोहर की छाँव
चलो नवगीत गाएँ

जंगल चीखा चली कुल्हाड़ी
नारी जहाँ सताई जाए
धूप सखी
बेटी तुम

भ्रमण पथ
ये सीढ़ियाँ

दोहों में-
इस अनजाने शहर में
शीत ऋतु

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter