पत्र व्यवहार का पता

अभिव्यक्ति तुक-कोश

१५. ८. २०१६

अंजुमन उपहार काव्य संगम गीत गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति
कुण्डलिया हाइकु अभिव्यक्ति हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर नवगीत की पाठशाला रचनाकारों से

आ गई हैं राखियाँ

 

हर गली बाजार में अब छा गई हैं राखियाँ।
प्रेम का त्यौहार लेकर आ गई हैं राखियाँ।
1
दूर भाई है अगर तो क्या हुआ, चिंता नहीं
कूरियर के साथ भी तो जा रहीं हैं राखियाँ।
1
राखियाँ जिसने बनाईं शुक्रिया उसका भी है
हर बहिन के प्यार को दिखला रही हैं राखियाँ
1
डोर हैं ये प्यार की बस जोड़ना हैं जानतीं
हाथ में बँधकर दिलों तक जा रहीं हैं राखियाँ
,
हार चूड़ी और कँगना चाहिए कुछ भी नहीं
मात्र रक्षा का वचन भरवा रहीं हैं राखियाँ
,
मोल राखी का चुकाना है बड़ा मुश्किल यहाँ
देख लो इतिहास को समझा रहीं हैं राखियाँ
,
खीर है, मीठी सिवैयाँ, बन रहे पकवान हैं
है अगर रूठा कोई, मनवा रही हैं राखियाँ।
,
साल का त्यौहार है रिश्ते निभाने के लिये
याद बचपन फिर हमें करवा रही हैं राखियाँ
,
- बसंत कुमार शर्मा

इस पखवारे

गीतों में-

bullet

अखिल बंसल

bullet

अशोक शर्मा कटेठिया

bullet

अश्विनीकुमार विष्णु

bullet

अमिताभ त्रिपाठी अमित

bullet

आभा खरे

bullet

कुमार गौरव अजीतेन्दु

bullet

कृष्ण भारतीय

bullet

नीरज द्विवेदी

bullet

प्रेरणा गुप्ता

bullet

भावना तिवारी

bullet

मधु प्रधान

bullet

मधु शुक्ला

bullet

रंजना गुप्ता

bullet

वेदप्रकाश शर्मा वेद

bullet

शंभु शरण मंडल

bullet

शशि पाधा

bullet

शशि पुरवार

bullet

शुभम श्रीवास्तव ओम

bullet

संजीव वर्मा सलिल

bullet

सीमा अग्रवाल

bullet

सौरभ पाण्डे-

अंजुमन में-

bullet

अमित वागर्थ

bullet

आभा सक्सेना

bullet

कल्पना रामानी

bullet

बसंत कुमार शर्मा

bullet

संजू शब्दिता

bullet

सुरेन्द्रपाल वैद्य

छंदों में-

bullet

ओमप्रकाश नौटियाल (दोहे)

bullet

कल्पना मनोरमा (दोहे)

bullet

मंजु गुप्ता (दोहे)

bullet

राम शिरोमणि पाठक (दोहे)

bullet

परमजीत रीत (कुंडलिया)

bullet

सरस्वती माथुर (मुक्तक)

bullet

सीमा हरिशर्मा (घनाक्षरी)

अंजुमनउपहार काव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंकसंकलनहाइकु
अभिव्यक्तिहास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतरनवगीत की पाठशाला

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है।

Google
Loading
प्रकाशन : प्रवीण सक्सेना -- परियोजना निदेशन : अश्विन गांधी
संपादन¸ कलाशिल्प एवं परिवर्धन : पूर्णिमा वर्मन

सहयोग :
कल्पना रामानी