अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में परमजीत कौर रीत की रचनाएँ

अंजुमन में-
कहीं आँखों का सागर
कहीं मुश्किल
कोई दावे की खातिर
रोटी या फूलों के सपने
हिज्र में भी गुलाब

माहियों में-
माहिये

 

 

 

 

 

  कोई दावे की खातिर

कोई दावे की खातिर जी रहा है
या फिर वादे की खातिर जी रहा है

किसी के हाथ में सब चाभियाँ हैं
कोई ताले की खातिर जी रहा है

उसी ने जिन्दगी का लुत्फ उठाया
जो खुद जीने की खातिर जी रहा है

जड़ों को क्यों न हो उम्मीद उससे
जो इक पत्ते की खातिर जी रहा है

लदा है याद पर परिवार भूखा
वो हर दाने की खातिर जी रहा है

तेरी कमजोरियाँ मैं जानती हूँ
अदू मौके की खातिर जी रहा है

१ जून २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter