अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में श्रीधर आचार्य शील की रचनाएँ-

गीतों में-
इक छोटा सा अंतराल
कुछ दिन बीते
तुमने कर दिया सही
यह कैसा अनुबंध
 

यह कैसा अनुबंध

उजले सूरज की किरणों ने
खोल दिये हैं बंध!
पीपल के पत्तों से छनकर
आती है कुछ गंध!

बाट जोहती खड़ी रह गयीं
कितनी आशाएँ
और न जाने टूटीं कितनी
चिंतित प्रतिमाएँ
हर अनुभव होता उत्साहित
हरपल नव विश्वास
स्नेहिल मुस्कानों का हरदम
होता नव आभास

अनजाने प्रतिबिंब अनेकों
उभरे क्यों स्वच्छंद!

चिड़ियों के कलकल गुंजन से
फूटे अधर यहाँ
जब जब बही बयार सरगमीं
बिखरे छंद यहाँ

लक्ष्यहीन होकर जब लहरी
नभ में सुरभि-बयार
उमड़ घुमड़कर रही बरसती
सुधियों की बौछार

कातिकिया किरणों से कैसा
मधुऋतु का संबंध!

यह कैसा अनुबंध!

१ फरवरी २०१८

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter