अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में श्रीधर आचार्य शील की रचनाएँ-

गीतों में-
इक छोटा सा अंतराल
कुछ दिन बीते
तुमने कर दिया सही
यह कैसा अनुबंध
 

तुमने कर दिया सही

कविता के मुक्तछंद में तुमने
जबसे है बात कुछ कही
जीवन के उजले पृष्ठों पर
हमने है कर दिया सही!

सपनों में अमलतास खिलते हैं
झरते हैं प्रीत के सुमन
लगती है चाँदनी यहाँ
तन पर हो हल्दिया वसन
लहरों पर झूमती हुई
जबसे है यामिनी बही!

गमले में धूप दुबककर बैठी
उजियारा देख मुस्कुराता है
देहरी के मखमली चँदोबे पर
सूरज का पैर फिसल जाता है
बगिया की झूमती बहारों पर
जबसे है खिल गयी जूही!

जीवन के उजले पृष्ठों पर
हमने है कर दिया सही!

१ फरवरी २०१८

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter