अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में श्रीधर आचार्य शील की रचनाएँ-

गीतों में-
इक छोटा सा अंतराल
कुछ दिन बीते
तुमने कर दिया सही
यह कैसा अनुबंध
 

इक छोटा-सा अंतराल

इक छोटा-सा अंतराल था
आना नहीं हुआ

सबकी बातें अपनी-अपनी
क्या लेना क्या देना
किस्सा-किस्सा तोता मैना
कोई इसे सुने ना
कोयलिया का अमराई में
गाना नहीं हुआ

है बबूल पर तेवर देखो
होता आग बबूला
मौका पाकर लोगों ने ही
जमकर इसे वसूला
इधर-उधर की बातें सुनकर
जाना नहीं हुआ

इस डाली से उस डाली तक
सभी दीवाने अपने धुन के
कूद-फाँदकर भाग रहे हैं
थोड़ी-सी ही हलचल सुन के
भरी दुपहरी में पत्तों का
लहराना नहीं हुआ

१ फरवरी २०१८

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter