अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

AnauBaUit maoM rajanaISa kumaar gaaOD, kI rcanaaeM

AbaaoQa
naaO xaiNakaeM
badiryaa
BaUK
maaTI
rolagaaD,I
lakIr
iSakayat
samaya
savaala

  BaUK

kBaI kBaI saaocata hU ik 
maOM BaUK ko ilayao ija,nda hU 
yaa 
BaUK nao mauJao ija,nda rKa huAa hO
iktnaI AjaIba saI baat hO
[sa BaUK ka
na kao[- Aaid hO na kao[- AMt
AadmaI BaUKa hI Aata hO
AaOr BaUKa hI calaa jaata hO.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter