अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

Syaama itvaarI 


 

  mana ka laxya 

mana caMcala hO mana pagala hO
mana sapnaao ka baadla hO 
mana mand hvaa ko JaaokaoM maoM bah
jaanao @yaa @yaa saaoca rha.

mana yahaM vahaM hO Baaga rha
maanava jaIvana kao kaT rha
mana saaro sauK duK saaoca rha
jaIvana laxya kao Kaoja rha.

pr saflata doK kr jalata
mana ASaaAaoM pr plata hO
bauiw Balao hI $k jaayao
pr maanava ka mana Baaga rha.

mana kI baataoM kao jaanoa dao 
mana tao Aavaara pCIM hO
]icat svalaxya kao phcaanaao 
vah laxya tumhara saMgaI hO .

mana kI $icakr baataoM maoM Aakr 
laxya kao Apnao BaUla naa jaanaa
hr laxya p`aiPt kao laxya banaa kr 
tuma jaIvana pqa pr baZto jaanaa .

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter